क्यों छुप छुप कर पढ़ते हो
अल्फाजों को मेरे
सीधे दिल ही पढ़ लो
साँसों तक तुम ही तुम हो

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.