अगर मिल जाये तू कहीं से
गजल का शेर लिक्खूगाँ वहीं से

शुरू होती है जैसे हर मोहब्बत
हमारी भी हुई उनकी नहीं से

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.