टूटना बिखरना ,
बिखर कर खाक में मिल जाना,
यही जिंदगी का दस्तूर है..!

अटूट मोहब्बत ,
फिर बेवफाई और जुदाई,
यही मोहब्बत का दस्तूर है !!

Spread the love

By Sanyasi

Leave a Reply

Your email address will not be published.