dard bhari shayari new

उल्टी पड़ी है कश्तीयाँ रेत पर मेरी,

कोई ले गया है दिल से समंदर निकाल कर..!

Spread the love

By Sanyasi

Leave a Reply

Your email address will not be published.