intjar sad shayari

अब किसी को चाहने और छोड़ने
की चाहत नहीं रही

पहले बहोत्त शौंक था दिल लगाने के
मगर अब वो आदत नहीं रही…

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.