राह तकते हुए सुबह से शाम हो गई
उम्मीद सारी आज नाकाम हो गई
शर्तिया फिर गमों की शुरुआत है ये
इब्तिदा हुई न थी ढंग से अंजाम हो गई

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.