जानते हो तुम ,🍁
तुम्हारा वो आखरी स्पर्श☘️
मैंने अब तक ऐसे ही
संभाल कर रखा है ,🌿
जैसे संभाली जाती है ,🌹
आखरी मिलन की स्मृतियां!🍂🍁

🖤वो स्पर्श में बसी उषा ,
बचाए रखती हैं मुझे,
जाड़ों की तेज ठंड में 💓
और दिलाती हैं🥀 ऎहसास
तुम तन से दूर सही ,💜
मगर मेरी आत्मा में समाए हो !❤️

Spread the love

By Sanyasi

Leave a Reply

Your email address will not be published.