आज भी…नहीं बाँधती मैं झुल्फ़ें अपनी…
मुझे याद है वो तेरा… बंधी झुल्फों पर रूठ जाना …!! 💕

Spread the love

By Sanyasi

Leave a Reply

Your email address will not be published.