shayri in hindi life

मिल जाता है दो पल का ‘सुकूंन’
बंद आँखों की बंदगी में
वरना ‘परेशां’ कौन नहीं
अपनी अपनी ज़िंदगी में!!❤

Spread the love

By Sanyasi

Leave a Reply

Your email address will not be published.